Best Beautiful Waterfall and Picnic Spots Near Raipur Chhattisgarh

0
95

Best Beautiful Waterfall and Picnic-

मुंगई माता मंदिर, बावनकेरा,छत्तीसगढ़-

मुंगई माता मंदिर मुम्बई-कोलकाता नेशनल हाइवे पर झलप जिला-महासमुंद छत्तीसगढ़ में स्थित है। जोकि राजधानी रायपुर से लगभग ८५ किलोमीटर दूर है। यहाँ देवी का मंदिर रोड के किनारे और पहाड़ दोनों ही स्थानों पर है। प्राकृतिक रूप यह स्थान वन आच्छादित है । चारो ओर घने जंगल है। पहाड़ी पर स्थित मंदिर के आस पास बहुत सारी प्राकृतिक गुफायें है जहाँ भालू अपने परिवार के साथ रहते है। अब तक इनके द्वारा किसी को नुकसान पहुचाने की जानकारी नही है।
दिन में या शाम होते होते यह भालू का परिवार नीचे माता मंदिर के पास आ जाती है और श्रद्धालुओं के बीच पुजारी जी के हाथों से चीजे लेकर खाने लगते है आम रस शहद जैसी रसीली चीजे इन्हें बेहद पसंद है।

इस वीडियो में भालुओ को घूमते मस्ती करते और खाते हुए आप देख सकते है।
यहाँ लगभग प्रतिदिन ही भालू नीचे आते है बांकी समय ऊपर की पहाड़ी में अपनी गुफा में आराम करते है।
आप झलप से पहले ही इस मंदिर को रोड किनारे देख सकते है और दर्शन कर सकते है। बहुत ही शांत और आध्यात्मिक वातावरण है इस मंदिर में। आप सभी ज़रूर जाए ।

Best Laptop 10th Genration

प्रसिद्ध कनकेश्वर महादेव मंदिर,ग्राम- कनकी कोरबा-

कनकी एक गांव है जो उर्गा के पास हसदो नदी के तट पर स्थित है, जो कोरबा से 20 किमी दूर है। कनकी ऊर्गा से 12 किलोमीटर की दूरी पर है। यह धार्मिक स्थल कनकेश्वर महादेव या चक्रेश्वर महादेव मंदिर के नाम पर प्रसिद्ध है। यह माना जाता है कि कनकी का मंदिर कोरबा के जमींदारों द्वारा 1857 के आस-पास बनाया गया था।
मंदिर, पत्थरों पर बनाई गई कई खूबसूरत चित्रों से सजा हुआ है। इसके अलावा, देवी दुर्गा का एक और प्राचीन मंदिर है।


यह गांव घने जंगल से घिरा हुआ है और कई तालाब यहाँ स्थित है। यह क्षेत्र प्रवासी पक्षियों के कारण भी काफी प्रसिद्ध है। यहाँ 15 मई के बाद विभिन्न तरह के प्रवासी पक्षी नवम्बर देखे जा सकते है ।

All India Tourism

चंडी माता मंदिर (भालू मंदिर) घुंचापाली, बागबाहरा छत्तीसगढ़-

यह मंदिर पहाड़ी पर स्थित है जहां स्वयं भू माता चंडी की विशाल प्रतिमा स्थापित है। यह स्थान राजधानी रायपुर से लगभग 90 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहाँ सड़क मार्ग और रेल मार्ग दोनों से पहुंचा जा सकता है। प्राकृतिक रूप से सम्पन्न यह क्षेत्र घने वनो से घिरा हुआ है , पहाड़ी क्षेत्र होने के कारण यहाँ जंगली जानवर भी बहुतायत में पाए जाते है। मंदिर में प्रतिदिन भालुओ की टोली प्रसाद खाने के लिए आते है, ये मंदिर परिसर में पालतू की तरह व्यवहार करते है जिससे किसी प्रकार का खतरा नहीं होता है।

Chhattisgarh Tourism Place

Beautiful Waterfall & Picnic Spots

घटारानी जलप्रपात एवं माता मंदिर, गरियाबंद-

घटारानी, यह जतमई मंदिर से 25 किमी दूर स्थित एक बड़ा जलप्रपात है। घटारानी मंदिर में नवरात्रि का त्योहार बहुत उत्साह और भक्ति के साथ मनाया जाता है। यहां हम विशेष रूप से नवरात्रि जैसे उत्सव के अवसरों पर सजावट देखते हैं। मानसून के बाद यह यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय है। मंदिर के पास ही सुंदर जलप्रपात बहता है, जो इस स्थान को और आकर्षक बनाता है। पूरे परिवार के लिए गंतव्य को पसंदीदा पिकनिक स्थल बनाने के लिए जलप्रपात पूर्ण प्रवाह में है। मंदिर में प्रवेश करने से पहले डुबकी लगाने के लिए झरना सबसे अच्छी जगह है। अधिक साहसी लोग जंगल में सैर कर सकते हैं। रायपुर से घटारानी मंदिर के लिए वाहन आसानी से उपलब्ध हैं।

Chhattisgarh Waterfalls

जतमई माता मंदिर और जलप्रपात गरियाबंद,छत्तीसगढ़-

रायपुर से 85 किमी दूर गरियाबंद के पास स्थित “जतमई मंदिर” एक छोटे से जंगल के सुंदर स्थलों के बीच स्थित “माता जटामाई” को समर्पित है। मंदिर को एक विशाल मीनार और कई छोटे शिखर / मीनारों के साथ ग्रेनाइट से खूबसूरती से उकेरा गया है। मुख्य प्रवेश द्वार के शीर्ष पर पौराणिक पात्रों का चित्रण करने वाली एक भित्ति चित्र देख सकते हैं। बारिश के मौसम में यहाँ प्राकृतक रूप से बहने वाला झरना सभी का मन मोह लेता है।

Waterfall near Raipur Chhattisgarh

धसकुड़ जलप्रपात, सिरपुर, छत्तीसगढ़-

छत्तीसगढ़ की ऐतिहासिक प्राचीन अवशेषों वाले कस्बे सिरपुर से लगभग १४ किलोमीटर दूर बारनयापारा अभ्यारण्य मार्ग पर घने जंगलो के बीच स्थित है धसकुड़ जलप्रपात। प्राकृतिक सौन्दय से भरपूर यह स्थान काफी सूनसान और भयावह भी है। जब भी आप यहाँ जाये समूह में जाये। जंगली जानवर इस क्षेत्र में घूमते मिल सकते है अतः सतर्कता ज़रूरी है।

Dhaskund Waterfall Awara Chhattisgarh

Beautiful Waterfall & Picnic Spots Near Raipur Chhattisgarh

Best Deal of Electronics

रहस्यमयी शिव गुफा चैतुरगढ़ का विहंगम दृश्य (Maa Mahisha Sur Mardani Chaiturgarh)-

Chaiturgarh or Lafagarh is a fort about 51 kilometres from Katghora tehsil, Korba district, Chhattisgarh, India, on the Korba–Bilaspur road. It is an Archaeological Survey of India protected monument. Chaiturgarh is one of the 36 forts of Chhattisgarh.

Mainpat Chhattisgarh Tourism Place-

Mainpat is a hill station and small village in the Surguja district in the northern part of the state of Chhattisgarh, India. It lies about 55 kilometers by road from Ambikapur. 
मैनपाट हरे भरे गहरी घाटियों, लुभावने झरनों, घने जंगलों और अछूते नालों के साथ एक हिल स्टेशन है। यहाँ अधिकतर तिब्बती आबादी और क्षेत्र पर प्रभाव और ठंडा स्थान होने के कारण मैनपाट को अक्सर छत्तीसगढ़ का शिमला और मिनी तिब्बत कहा जाता है। तिब्बती शरणार्थियों को मैनपाट तिब्बत पर चीनी आक्रमण के बाद में पुनर्वास किया गया था |

रहस्यमयी चुंबकीय क्षेत्र मैनपाट- DRONE VIDEO OF MAINPAT ULTAPANI & JALJALI ZAMEEN

Chhattisgarh Tourism Board

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here