Home Blog

Navratri 2021 Special- Kantikartik Yadav Ji,Kavita Vasnik Ji

0

New Release 4K Video Song – JAB LE MAI DEKHEV TOLA (Champa Nishad)

0

hampa Nishad Cg Song Video | JAB LE MAI DEKHEV TOLA | Sameer Khan | 4K | 360india | Videosong2021 About This Video Song- Jabale Mai Dekhev Tola… (Chhattisgarhi Love Song )

गीत- जबले मै देखेंव तोला…
स्वर- चंपा निषाद एवं समीर खान
गीतकार – श्री रामेश्वर वैष्णव जी
संगीत – विवेक शर्मा जी
ताल संयोजन – महेंद्र चौहान एवं नीलेश शर्मा
रेकार्डिंग- सरगम डिजिटल रिकॉर्डिंग स्टूडियो, रायपुर
विशेष तकनिकी सहयोग- ओ.पी. देवांगन
सिनेमेटोग्राफी – बेनेडिक्ट फ्रांसिस, राजा साहू, यशोधर वर्मा
विशेष आभार-अशोका इंजीनियरिंग कॉलेज राजनाँदगाँव
Copyright – All rights reserve @360INDIA (Shraddha Vinod Kashyap)

Best Beautiful Waterfall and Picnic Spots Near Raipur Chhattisgarh

0

Best Beautiful Waterfall and Picnic-

मुंगई माता मंदिर, बावनकेरा,छत्तीसगढ़-

मुंगई माता मंदिर मुम्बई-कोलकाता नेशनल हाइवे पर झलप जिला-महासमुंद छत्तीसगढ़ में स्थित है। जोकि राजधानी रायपुर से लगभग ८५ किलोमीटर दूर है। यहाँ देवी का मंदिर रोड के किनारे और पहाड़ दोनों ही स्थानों पर है। प्राकृतिक रूप यह स्थान वन आच्छादित है । चारो ओर घने जंगल है। पहाड़ी पर स्थित मंदिर के आस पास बहुत सारी प्राकृतिक गुफायें है जहाँ भालू अपने परिवार के साथ रहते है। अब तक इनके द्वारा किसी को नुकसान पहुचाने की जानकारी नही है।
दिन में या शाम होते होते यह भालू का परिवार नीचे माता मंदिर के पास आ जाती है और श्रद्धालुओं के बीच पुजारी जी के हाथों से चीजे लेकर खाने लगते है आम रस शहद जैसी रसीली चीजे इन्हें बेहद पसंद है।

इस वीडियो में भालुओ को घूमते मस्ती करते और खाते हुए आप देख सकते है।
यहाँ लगभग प्रतिदिन ही भालू नीचे आते है बांकी समय ऊपर की पहाड़ी में अपनी गुफा में आराम करते है।
आप झलप से पहले ही इस मंदिर को रोड किनारे देख सकते है और दर्शन कर सकते है। बहुत ही शांत और आध्यात्मिक वातावरण है इस मंदिर में। आप सभी ज़रूर जाए ।

Best Laptop 10th Genration

प्रसिद्ध कनकेश्वर महादेव मंदिर,ग्राम- कनकी कोरबा-

कनकी एक गांव है जो उर्गा के पास हसदो नदी के तट पर स्थित है, जो कोरबा से 20 किमी दूर है। कनकी ऊर्गा से 12 किलोमीटर की दूरी पर है। यह धार्मिक स्थल कनकेश्वर महादेव या चक्रेश्वर महादेव मंदिर के नाम पर प्रसिद्ध है। यह माना जाता है कि कनकी का मंदिर कोरबा के जमींदारों द्वारा 1857 के आस-पास बनाया गया था।
मंदिर, पत्थरों पर बनाई गई कई खूबसूरत चित्रों से सजा हुआ है। इसके अलावा, देवी दुर्गा का एक और प्राचीन मंदिर है।


यह गांव घने जंगल से घिरा हुआ है और कई तालाब यहाँ स्थित है। यह क्षेत्र प्रवासी पक्षियों के कारण भी काफी प्रसिद्ध है। यहाँ 15 मई के बाद विभिन्न तरह के प्रवासी पक्षी नवम्बर देखे जा सकते है ।

All India Tourism

चंडी माता मंदिर (भालू मंदिर) घुंचापाली, बागबाहरा छत्तीसगढ़-

यह मंदिर पहाड़ी पर स्थित है जहां स्वयं भू माता चंडी की विशाल प्रतिमा स्थापित है। यह स्थान राजधानी रायपुर से लगभग 90 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहाँ सड़क मार्ग और रेल मार्ग दोनों से पहुंचा जा सकता है। प्राकृतिक रूप से सम्पन्न यह क्षेत्र घने वनो से घिरा हुआ है , पहाड़ी क्षेत्र होने के कारण यहाँ जंगली जानवर भी बहुतायत में पाए जाते है। मंदिर में प्रतिदिन भालुओ की टोली प्रसाद खाने के लिए आते है, ये मंदिर परिसर में पालतू की तरह व्यवहार करते है जिससे किसी प्रकार का खतरा नहीं होता है।

Chhattisgarh Tourism Place

Beautiful Waterfall & Picnic Spots

घटारानी जलप्रपात एवं माता मंदिर, गरियाबंद-

घटारानी, यह जतमई मंदिर से 25 किमी दूर स्थित एक बड़ा जलप्रपात है। घटारानी मंदिर में नवरात्रि का त्योहार बहुत उत्साह और भक्ति के साथ मनाया जाता है। यहां हम विशेष रूप से नवरात्रि जैसे उत्सव के अवसरों पर सजावट देखते हैं। मानसून के बाद यह यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय है। मंदिर के पास ही सुंदर जलप्रपात बहता है, जो इस स्थान को और आकर्षक बनाता है। पूरे परिवार के लिए गंतव्य को पसंदीदा पिकनिक स्थल बनाने के लिए जलप्रपात पूर्ण प्रवाह में है। मंदिर में प्रवेश करने से पहले डुबकी लगाने के लिए झरना सबसे अच्छी जगह है। अधिक साहसी लोग जंगल में सैर कर सकते हैं। रायपुर से घटारानी मंदिर के लिए वाहन आसानी से उपलब्ध हैं।

Chhattisgarh Waterfalls

जतमई माता मंदिर और जलप्रपात गरियाबंद,छत्तीसगढ़-

रायपुर से 85 किमी दूर गरियाबंद के पास स्थित “जतमई मंदिर” एक छोटे से जंगल के सुंदर स्थलों के बीच स्थित “माता जटामाई” को समर्पित है। मंदिर को एक विशाल मीनार और कई छोटे शिखर / मीनारों के साथ ग्रेनाइट से खूबसूरती से उकेरा गया है। मुख्य प्रवेश द्वार के शीर्ष पर पौराणिक पात्रों का चित्रण करने वाली एक भित्ति चित्र देख सकते हैं। बारिश के मौसम में यहाँ प्राकृतक रूप से बहने वाला झरना सभी का मन मोह लेता है।

Waterfall near Raipur Chhattisgarh

धसकुड़ जलप्रपात, सिरपुर, छत्तीसगढ़-

छत्तीसगढ़ की ऐतिहासिक प्राचीन अवशेषों वाले कस्बे सिरपुर से लगभग १४ किलोमीटर दूर बारनयापारा अभ्यारण्य मार्ग पर घने जंगलो के बीच स्थित है धसकुड़ जलप्रपात। प्राकृतिक सौन्दय से भरपूर यह स्थान काफी सूनसान और भयावह भी है। जब भी आप यहाँ जाये समूह में जाये। जंगली जानवर इस क्षेत्र में घूमते मिल सकते है अतः सतर्कता ज़रूरी है।

Dhaskund Waterfall Awara Chhattisgarh

Beautiful Waterfall & Picnic Spots Near Raipur Chhattisgarh

Best Deal of Electronics

रहस्यमयी शिव गुफा चैतुरगढ़ का विहंगम दृश्य (Maa Mahisha Sur Mardani Chaiturgarh)-

Chaiturgarh or Lafagarh is a fort about 51 kilometres from Katghora tehsil, Korba district, Chhattisgarh, India, on the Korba–Bilaspur road. It is an Archaeological Survey of India protected monument. Chaiturgarh is one of the 36 forts of Chhattisgarh.

Mainpat Chhattisgarh Tourism Place-

Mainpat is a hill station and small village in the Surguja district in the northern part of the state of Chhattisgarh, India. It lies about 55 kilometers by road from Ambikapur. 
मैनपाट हरे भरे गहरी घाटियों, लुभावने झरनों, घने जंगलों और अछूते नालों के साथ एक हिल स्टेशन है। यहाँ अधिकतर तिब्बती आबादी और क्षेत्र पर प्रभाव और ठंडा स्थान होने के कारण मैनपाट को अक्सर छत्तीसगढ़ का शिमला और मिनी तिब्बत कहा जाता है। तिब्बती शरणार्थियों को मैनपाट तिब्बत पर चीनी आक्रमण के बाद में पुनर्वास किया गया था |

रहस्यमयी चुंबकीय क्षेत्र मैनपाट- DRONE VIDEO OF MAINPAT ULTAPANI & JALJALI ZAMEEN

Chhattisgarh Tourism Board

Bollywood News(Bollywood Industry)Box Office Collection

0

Bollywood Industry

Know about Box office collection of Bollywood movies, about Box office prediction, weekend collection of hindi movies, Box Office news, bollywood box office movies report in Hindi on FilmiBeat Hindi.

बॉक्स ऑफिस रिपोर्ट | Bollywood Movies Box Office Collection News in Hindi – FilmiBeat Hindi बॉक्स ऑफिस रिपोर्ट – Read Box office collection News in hindi about Bollywood movies, Box office prediction, weekend collection of hindi movies, Box Office news, bollywood box office movies report in Hindi on FilmiBeat Hindi.

लेटेस्ट मोबाइल और नई लॉन्चिंग (New Mobile Updates)

0

New Mobile Updates

Latest News मोबाइल-टेक News18 हिंदी Latest news from मोबाइल-टेक Section

Being aware during lockdown and Eat Healthy (लॉक डाउन )

0

Being aware during lockdown and Eat Healthy food (Lockdown Updates)

Lockdown Updates (Eat Heathy)
RSS Error: A feed could not be found at `https://hindi.news18.com/rss/khabar/lifestyle/health.xml`; the status code is `403` and content-type is `text/html`

Dr. Pukhraj Bafna-Padmashri Dr. Pukhraj Bafna (In Medicine)

0

Pukhraj Bafna is an Indian pediatrician and adolescent health consultant, known for his contributions towards tribal child and adolescent health. The Government of India honored Bafna in 2011, with the fourth highest civilian award of Padma Shri.Padmshri Dr. Pukhraj Bafna-

AWARDS AND RECOGNITIONS

Pukhraj Bafna is a recipient of the National C. T. Thakkar Award of the Indian Medical Association in 1978 and the Becon International Award in 1986. He has also received the Mahaveer Mahatma Award from the Times of India group and the Academic Excellence Award from the Indian Academy of Pediatrics, both in 2004. Jain Vishva Bharati University Rajasthan and the Government of Kerala have honored Bafna with citations. In 2011, The Government of India included him in the list of Republic day honours for the award of Padma Shri.

BIOGRAPHY

Pukhraj Bafna was born on 14 November 1946 at Rajnandgaon, in the Indian state of Chhattisgarh. He graduated in medicine (MBBS) in 1969 from Netaji Subhash Chandra Bose Medical College, Jabalpur and continued his studies there to obtain the medical degrees of DCh (1972) and MD (1973) in pediatrics. He has also obtained a doctoral degree from Jain Vishva Bharati University, Ladnun.

Bafna is credited with a book, Status of Tribal Child Health in India. He has also been writing health column for over 40 years (since 1973) in Sabera Sanket, a Hindi language newspaper. He has also attended several seminars and has chaired many conferences.

Pukhraj Bafna has conducted over 500 child health camps and has supported 149 orphaned children in Bastar whose parents lost their lives due to militancy in the area. He lives in Rajnandgaon, Chhattisgarh.

Padmshri Dr. Pukhraj

Dr. Pukhraj Bafna
Dr. Pukhraj Bafna
  • Doctor Name :DR PUKHRAJ BAFNA
  • Contact :07744-225051
  • Address :BAFNA NIVAS GANJ LANE
  • City :Rajnandgaon
  • Email Address :dr_bafna@yahoo.co.in

Padmashri Shamshad Begum ji extensive work for the education of backward communities(महिला कमांडोज ब्रिगेड)

0

Padmashri Shamshad Begum ji (Biography)

The foundation of the Women’s Commandos Brigade was laid in 2006 by Shamshad Begum, an Indian activist and later Padma Shri recipient (2012). Begum, who has done extensive work for the education of backward communities in Chhattisgarh, was the catalyst in bringing together around 100 women who committed violence at their homes at the hands of drunken men. Some of them are also victims of human trafficking who, after being rescued, took it upon themselves to fight for basic human rights for members of their society. Padmshri Shamshad Begum Ji.

महिला कमांडोज ब्रिगेड की नींव 2006 में शमशाद बेगम, एक भारतीय कार्यकर्ता और बाद में पद्म श्री प्राप्तकर्ता (2012) ने रखी थी। बेगम, जिन्होंने छत्तीसगढ़ में पिछड़े समुदायों की शिक्षा के लिए व्यापक काम किया है, लगभग 100 महिलाओं को एक साथ लाने में उत्प्रेरक थीं जिन्होंने अपने घरों में शराबी पुरुषों के हाथों हिंसा की। उनमें से कुछ मानव तस्करी के शिकार भी हैं, जिन्हें बचाया जाने के बाद, अपने समाज के सदस्यों के लिए बुनियादी मानवाधिकारों के लिए लड़ने के लिए खुद पर ले लिया।

ये महिलाएं एक सरल सोच से प्रेरित हैं – अपने बच्चों को उन अत्याचारों से बचाने के लिए जिन्हें उन्हें भुगतना पड़ा। हालांकि बेगम ने इस बात पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि कितने गाँवों को शराब मुक्त किया गया था, उन्होंने वादा किया कि अभियान अगले कुछ वर्षों में उत्कृष्ट परिणाम दिखाएगा। इन महिलाओं के लिए एक बड़ा प्रोत्साहन जो हिंसक, गरीब परिवारों से आते हैं, उन्हें उनकी कड़ी मेहनत के लिए भुगतान करना होगा ताकि वे अपने घरों की ओर योगदान कर सकें, वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त कर सकें और बेहतर जीवन स्तर की ओर बढ़ सकें। अक्सर, घरेलू शोषण का सामना करने वाली महिलाओं के लिए एक बड़ी चुनौती वित्तीय स्वतंत्रता प्राप्त करना है, जिसका मतलब है कि उनके पास अक्सर कमी होती है। एक नियमित वेतन तक पहुंच होने से वास्तव में उन्हें सशक्त बनाने में मदद मिलेगी।महिला कमांडो ’अभियान छत्तीसगढ़ पुलिस द्वारा राज्य में कानून और व्यवस्था बहाल करने के साथ-साथ भागीदारी के माध्यम से महिलाओं को सशक्त बनाने के एक बड़े अभियान का हिस्सा है। यह विशेष रूप से विभिन्न गांवों से संबंधित विभिन्न महिलाओं पर निर्भर करता है जो एक साथ आते हैं और इन मुद्दों से लड़ते हैं जो उन्हें प्लेग करते हैं। साथ ही, ये महिलाएँ ज्यादातर गृहिणी होती हैं, जो पूरे दिन घर पर काम करती हैं, और बाद में गश्त और अन्य नौकरियों के लिए अपनी-अपनी टीमों में शामिल हो जाती हैं। और यह कल्याणकारी कार्य हर एक महिला को एक बड़े समुदाय और एक सहायता प्रणाली प्रदान करता है, साथ ही साथ एक अंतर बनाने की संतुष्टि भी प्रदान करता है।

Padmshri Shamshad Begum Ji

वर्ष 2012 में भारत सरकार ने महिलाओं की शिक्षा, पिछड़े वर्ग की उन्नति और अन्य सामाजिक कार्यों के लिए पद्म श्री सम्मान से सम्मानित किया था। बेगम कहती हैं कि महिला कमांडो में शामिल महिलाओं ने शराब की बुराईयों के कारण बहुत कुछ झेला है। अब वह चाहती हैं कि आने वाली पीढ़ी इस बुराई से दूर रहे। यही कारण है कि ये महिलाएं शराब बंदी का प्रयास कर रही हैं। इसके लिए वह सभी कठिनाइयां झेल रही हैं। उन्होंने बताया कि महिला कमांडो बालोद जिले के गुंडरदेही, गुरुर और बलोद विकासखंड के लगभग तीन सौ गांवों में तथा पड़ोसी जिले दुर्ग के पाटन क्षेत्र के लगभग 150 गांवों में सक्रिय है। यह कार्य ‘सहयोगी जन कल्याण समिति’ के माध्यम से किया जा रहा है। शमशाद बेगम ने बताया कि रोज शाम लगभग 40 महिलाओं का समूह लाठी और टार्च लेकर शराब माफियाओं के खिलाफ गश्त में निकलता है। इस दौरान महिलाएं शराब माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई करती हैं और शराब पीने वालों को इसकी बुराईयों से अवगत कराती हैं। हालांकि, कई बार उन्हें गांव के सरपंच और पुलिस का सहारा लेना पड़ता है। उन्होंने कहा, ‘कई बार पहरा देने के दौरान महिलाओं को विपरीत परिस्थितियों का भी सामना करना पड़ता है। महिलाएं कानून अपने हाथ में नहीं लेतीं। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए पुलिस की सहायता ली जाती है।’ उन्होंने कहा, ‘जिले में इन महिलाओं को एसपीओ बनाने का फैसला किया गया है जिससे यह सरकार के साथ मिलकर और भी बेहतर काम कर सकें। इस परियोजना के तहत पहले एक सौ महिला कमांडो को एसपीओ बनाया गया है। इसके लिए बलोद और गुंडरदेही ब्लाक के एक एक गांव से 10-10 महिलाओं का चयन किया गया है।’ कम्युनिटी पुलिस फंड के माध्यम से एसपीओ महिलाओं को गस्त के लिए लाठी, वर्दी के रुप में लाल साड़ी, लाल टोपी, सीटी और टार्च दी गई है। आने वाले तीन महिने के दौरान एसपीओ के कार्यों का मूल्यांकन किया जाएगा और बाद में इनकी सेवाओं का विस्तार किया जाएगा। पुलिस अधिकारी ने बताया कि आने वाले समय में जिले में 10 हजार महिला कमांडो को एसपीओ के रुप में चयन करने के लिए राज्य शासन को 40 लाख रुपए का प्रस्ताव भेजा गया है। हुसैन ने कहा महिला कमांडो के कारण जिले में कुछ हद तक शराब के अवैध कारोबार पर लगाम लगा है साथ ही अन्य अपराधों में भी कमी आई है।

पद्म विभूषण तीजन बाई (Biography)- Success Story by Teejan bai ji

0

पद्म विभूषण तीजन बाई (Biography)- Success Story by Teejan bai ji

Folk Singer Teejan Bai

13 साल की उम्र में उसने अपना पहला सार्वजनिक प्रदर्शन 10 रुपये में एक पड़ोसी गाँव चंद्रखुरी (दुर्ग) में दिया एक महिला के लिए पहली बार ‘पंडवानी’ के कपालिक शिलि (शैली) में गाते हुए जैसा कि पारंपरिक रूप से महिलाएँ गाती थीं। वेदमती में- बैठी हुई शैली। परंपरा के विपरीत तीजन बाई ने अपनी विशिष्ट कण्ठस्थ स्वर और अचूक वाणी में ज़ोर से गायन का प्रदर्शन किया जो उस समय तक दर्ज था जो एक नर गढ़ था। थोड़े समय के भीतर उसे आस-पास के गाँवों में जाना जाने लगा और विशेष अवसरों और त्योहारों पर प्रदर्शन के लिए निमंत्रण मिलता था।

Teejan Bai was born in Ganiyari village 14 kilometres (8.7 mi) north of Bhilai to Chunuk Lal Pardhi and his wife Sukhwati. She belongs to the Pardhi Scheduled Tribe of Chhattisgarh state. The eldest among her five siblings she heard her maternal grandfather Brijlal Pradhi recite the Mahabharata written by Chhattisgarhi writer Sabal Singh Chauhan in Chhattisgarhi Hindi and instantly took a liking to it. She soon memorised much of it and later trained informally under Umed Singh Deshmukh. Awarded by – Sangeet Natak Akademi Award in 1995 Padma Shri- 1988 Padma Bhushan- 2003 Padma Vibhushan- 2019 Genius Book of World Record

तीजन बाई की बायोपिक का आइडिया ऐसे समय में सामने आया है जब उन्हें कई अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है। जिसमें से एक है 2018 में उन्हें दिया गया द फुकुओका प्राइज। इस फिल्म की मेकिंग में आलिया सिद्दीकी और मंजू गढ़वाल की मदद कर रहे नवाजुद्दीन कहते हैं- तीजन बाई अपने आप में एक किवदंती हैं। मुझे आलिया पर? पूरा यकीन है कि वे इस फिल्म को महज फिल्म फेस्टिवल के लिए नहीं, बल्कि आज के आम? दर्शकों को ध्यान में रखकर इसे बेहद प्रासंगिकता के साथ बनाएंगी।

  • लोक गायन कला पंडवानी में थी महारत

तीजन बाई को लोक गायन की मशहूर कला पंडवानी में महारत हासिल है। पंडवानी छत्तीसगढ़ में सुनाई जाने वाली महाभारत से जुड़े किस्सों से संबंधित गायन विधा है। तीजन बाई की इसी कला ने आलिया सिद्दीकी को बेहद प्रभावित किया। उन्हें लगा कि एक बायोपिक उनकी जिंदगी के साथ न्याय कर पाएगी। इसलिए स्क्रिप्ट लिखने का जिम्मा भी आलिया ने खुद ही उठाया। आलिया चाहती हैं कि फिल्म के तमाम गाने एक ऐसे कद्दावर शख़्स ने लिखे जिसे कलम का जादूगर माना जाता है। आलिया की दिली ख़्वाहिश है कि गुलजार साहब तीजन बाई पर बन रही फिल्म के गाने लिखकर उनकी जिदगी को अपने लिखे शब्दों से हमेशा के लिए अमर कर दें।

छत्तीसगढ़ के गनियारी गांव में 1956 में जन्मीं तीजन बाई के पिता का नाम चुनुक लाल पारधी और मां का नाम सुखवती था। छत्तीसगढ़ के अनुसूचित जाति पारधी समाज से ताल्लुक रखने वाली तीजन बाई को 1988 में पद्मश्री, 1995 में श्री संगीत कला अकादमी पुरस्कार, 2003 में डॉक्टरेट की डिग्री, 2003 में पद्म भूषण, 2016 में एमएस सुब्बालक्ष्मी शताब्दी पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।

तीजन बाई की शादी 12 साल की बेहद कम उम्र में कर दी गई थी। उन्हें अपने पारधी समाज से निष्काषित भी कर दिया गया था। उनका कसूर बस इतना था कि वे एक महिला होकर पंडवानी गायिकी की विधा में बेहद रुचि रखती थीं। इस तरह से बचपन से ही उनका संघर्ष शुरू हो गया था। वे एक झोपड़ी बनाकर रहती थीं। आलिया सिद्दीकी कहती हैं कि उन्होंने कभी भी गायिकी का दामन नहीं छोड़ा और इसी गायिकी के चलते उन्हें लोकप्रियता मिली। तीजन बाई की जिंदगी के कई पहलू हैं, जिसके बारे में लिखा जा सकता है। मुझे शिद्दत से लगा कि उनकी जिंदगी पर एक फिल्म बनाई जानी चाहिए।

ऋतू वर्मा पंडवानी (सफलता की कहानी ) Pandvani Folk Singer -An Interview with Ritu Verma

0

Pandvani Folk Singer -An Interview with Ritu Verma Pandvani

10 जून 1979 को भिलाई की श्रमिक रूआबांधा में जन्मी कु. रितु वर्मा ने अगस्त 1989 में विदेशी मंच पर अपना पहला कार्यक्रम दिया। मात्र दस वर्ष की उम्र में जापान में अपना कार्यक्रम देकर रितु ने वह गौरव हासिल किया जो बिरले कलाकारों को मिलता है। रितु छतीसगढ़ की पहली ऐसी प्रतिभा संपन्न कलाकार है जिसने इतनी छोटी उम्र में ऐसा विलक्षण प्रदर्शन दिया। घुटनों के बल बैठकर और एक हाथ में तंमूरा लेकर रितु ने पूरे आत्मविश्वास के साथ कार्यक्रम दिया। कार्यक्रम में आये जापानी दर्शक गोरी चिट्टी छुई हुई सी लगने वाली इस पंडवानी विधा की गुडिय़ा के प्रदर्शन पर देर तक तालियां बजाते रहे। संगीत नाटक अकादमी नई दिल्ली द्वारा महोत्सव के लिए जापान प्रवास का यह सुअवसर रितु को लगा। तब से वह लगातार विदेश जा रही है। 1991 में आदिवासी लोक कला परिषद भोपाल ने उसे जर्मनी एवं इंग्लैंड भेजा। तब तक रितु की कला और निखर चुकी थी। वहां उसे खूब वाहवाही मिली।

An Interview with Ritu Verma

An Interview with Ritu Verma

Ritu Verma Pandvani Photos