Rajesh khanna and rajendra kumar house interesting incident

0
14


नई दिल्ली: राजेश खन्ना (Rajesh Khanna) ने अपने दौर में जितनी लोकप्रियता हासिल की उसके लिए आज भी कई सुपरस्‍टार तरसते हैं. राजेश खन्ना ने अपने फिल्मी करियर के दौरान काफी लंबे समय तक स्टारडम के सुनहरे दौर को देखा. वे बॉलीवुड के इकलौते अभिनेता हैं जिन्‍होंने लगातार 15 सुपरहिट फिल्‍में दी थी. राजेश खन्ना के दौर में सुपरस्टार के लिए इतनी दिवानगी थी कि लोग उनकी स्टाइल के कुर्ते सिलवाते थे और अपने बच्चों का नाम भी राजेश ही रखने लगे थे. 

पर ये बात बहुत कम लोग जानते हैं कि राजेश खन्ना ने जब राजेंद्र कुमार से उनका बंगला खरीदा तो उनकी किस्मत, शोहरत और तरक्की को जैसे पर लग गए. इसका खुलासा बुक ‘जुबली कुमार- द लाइफ एंड टाइम्स ऑफ अ सुपरस्टार’ में हुआ है. राजेश खन्ना ने जब यह बंगला खरीदा तो वाकई में उनकी किस्मत चमकी और उन्होंने एक के बाद एक शानदार फिल्में कीं. इसमें ‘अराधना’, ‘इत्तेफाक’ और ‘दो रास्ते’ जैसी फिल्में शामिल हैं.

सीमा सोनिक एलीमचंद्र ने अपनी किताब जुबली कुमार- द लाइफ एंड टाइम्स ऑफ अ सुपरस्टार’ में जिक्र किया है कि राजेश खन्ना ने राजेन्द्र को बंगला खरीदते हुए कहा था कि आप पहले से ही अपने करियर के चरम पर हैं और मैं अभी इंडस्ट्री में अपनी शुरुआत कर रहा हूं. इस बंगले का नाम राजेश ने ‘आशीर्वाद’ रखा था, कुमार ने राजेश खन्ना को यह बंगला उस जमाने में 3.5 लाख में बेचा, जो कि मार्केट वेल्यू के हिसाब से कीमत काफी कम थी. 

कुमार के बंगले का नाम ‘डिंपल’ था, राजेश खन्ना बंगला खरीदने के बाद ऊंचाइंया छू रहे थे. साल 1971 राजेश खन्ने ने अपने नाम किया और एक रोमांटिक सुपरस्टार के नाम से मशहूर हुए. राजेश खन्ना ने एक बार फिर बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचाया. उन्होंने ‘हाथी मेरे साथी’, ‘मरयादा’, ‘कटी पतंग’, ‘महबूब की मेहंदी’ और ‘आनंद’ जैसी फिल्में की. 2012 में राजेश खन्ना के निधन के बाद उनके परिवार ने ‘आर्शीवाद’ को 90 करोड़ में बेच दिया था, जिसे शशी किरण शेट्टी ने खरीदा था.

एंटरटेनमेंट की और खबरें पढ़ें 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here