happy birthday to actor to a politician raj babbar

0
17


नई दिल्ली: राज बब्बर (Raj Babbar) एक ऐसी शख्सियत है जिसने जहां भी कदम रखा. अपनी काबीलियत का लोहा मनवाया फिर चाहें वह अभिनय की दुनिया या फिर राजनीतिक पारी. उनके हुनर का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि एनएसडी से निकले अब तक के ऐसे पहले छात्र हैं, जिन्हें बतौर हीरो बॉलीवुड में ब्रेक मिला. राज बब्बर का जन्म 23 जून 1952 को उत्तरप्रदेश के टुंडला में हुआ था. आगरा के फैज-ए आम इंटर कॉलेज से पढ़ाई करने के बाद उन्होंने आगरा कॉलेज से ग्रेजुएशन किया. इसके बाद उन्होंने दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा  से ग्रेजुएशन किया. 

राज बब्बर ने दो शादियां की. उनकी पहली शादी 1975 में मशहूर थिएटर आर्टिस्ट और फिल्म डायरेक्टर नादिरा बब्बर से हुई. नादिरा से उनके दो बच्चे हैं, जिनके नाम जूही और आर्य बब्बर हैं. राज बब्बर ने दूसरी शादी 1986 में जानी मानी फिल्म एक्ट्रेस स्मिता पाटिल से की. स्मिता पाटिल से उनका एक बेटा प्रतीक बब्बर है, जो बॉलीवुड में अभिनय करते हैं. स्मिता पाटिल का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया था. राज बब्बर उन शख्सियतों में शुमार हैं, जिन्होंने अपनी युवावस्था में समाज के बंधनों को दरकिनार कर स्मिता पाटिल के साथ लिव इन में रहने को साहस दिखाया था.

Smita Patil birthday special: जब राज बब्बर ने स्मिता पाटिल के लिए छोड़ दिया था परिवार!

‘किस्सा कुर्सी का’ से मिला ब्रेक
राज बब्बर को बॉलीवुड में पहला ब्रेक 1977 में ‘किस्सा कुर्सी  से मिला था. इस फिल्म में उनके साथ रीना रॉय थी. राज बब्बर को पहली सफलता वर्ष 1980 में आई फिल्म ‘इंसाफ का तराजू’ से मिली. इस फिल्म में राज बब्बर ने एक रेपिस्ट की भूमिका निभाई थी, जिसे अंत में फिल्म की नायिका गोली मार देती है. उनकी बड़ी हिट फिल्मों में बीआर चोपड़ा की ‘निकाह’ शामिल है. राज बब्बर आज भी लगातार फिल्मों में सक्रिय हैं. ‘कॉरपोरेट’, ‘बॉडीगार्ड’, ‘कर्ज’, ‘फैशन’, ‘साहब बीवी और गैंगस्टर’ और ‘बुलेट राजा’ जैसी आज की फिल्मों में भी राज बब्बर उतनी ही ऊर्जा से अभिनय करते हुए नजर करते आते हैं, जितना कि वे अपनी शुरुआती दौर की फिल्मों में नजर आते थे. ‘जिद्दी’, ‘दलाल’, ‘दाग: द फायर’ जैसी फिल्मों में उन्होंने विलेन के रोल को बखूबी निभाया तो अपने कॅरियर के शुरुआती दौर में उन्होंने नायक की भूमिका को भी पूरे उत्साह और लगन के साथ निभाया. 

स्मिता से बेइंतहा मोहब्बत करते थे राज बब्बर
कुछ साल पहले स्मिता की याद में राज बब्बर ने सोशल मीडिया पर एक इमोशनल पोस्ट लिखा था. उन्होंने लिखा था- “जब तुम गई थीं तब तुम सिर्फ 31 साल की थीं… लेकिन हमेशा अपने अनुभवों की सीमा के बहुत आगे खड़ी मिलीं… जीवन में सब कुछ बहुत जल्द जी लिया. तुम्हारी अनुपस्थिति पर अब भी यकीन नहीं होता.

राजनीतिक सफर
200 से फिल्में करने वाले राज बब्बर पहली बार 1994 में संसद पहुंचे थे, जब वह यूपी से राज्यसभा के लिए निर्वाचित हुए. राज बब्बर शुरुआती दिनों से समाजवादी पार्टी में रहे. 1996 में उन्होंने अपने जीवन का पहला लोकसभा चुनाव पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के खिलाफ लखनऊ सीट से लड़ा और उन्हें हार का सामना करना पड़ा. हालांकि, उन्हें 37 फीसदी वोट मिले, जबकि अटल बिहारी वाजपेयी को 52 फीसदी वोट मिले. इसके बाद राज बब्बर ने 1999 में आगरा सीट से सपा के टिकट पर ही लोकसभा चुनाव लड़ा, जिसमें जीत दर्ज की. राज बब्बर ने इस चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार को शिकस्त दी. 

2004 के आम चुनाव में भी राज बब्बर ने समाजवादी पार्टी के टिकट पर आगरा सीट से एक बार फिर जीत दर्ज की. हालांकि, इसी बीच 2006 में उन्हें समाजवादी पार्टी से निष्कासित कर दिया गया, जिसके बाद 2008 में राज बब्बर ने कांग्रेस ज्वाइन कर ली. लोकसभा चुनाव 2019 में वो फतेहपुर सीकरी सीट से चुनाव लड़े थे पर जीत नहीं पाए थे. 

एंटरटेनमेंट की और खबरें पढ़ें





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here