Filmmaker Lijo Jose Pellisary announces to leave Malayalam Film Industries Mainstream | सुपरहिट फिल्म जल्लीकट्टू के निर्देशक Lijo Jose Pellisary का Malayalam Film Industries से हटने का ऐलान

0
15


नई दिल्ली : फिल्म निर्देशक लिजो जोस पेलिसरी (Lijo Jose Pellisary) ने अपनी फेसबुक वॉल पर एक लंबी चौड़ी पोस्ट लिख कर ऐलान कर दिया है कि अब वह मलयालम फिल्म इंडस्ट्री की मेनस्ट्रीम का हिस्सा नहीं रहेंगे. उन्होंने लिखा है कि अब वह वह स्वतंत्र निर्देशक के रूप में काम करेंगे. लिजो हमेशा से मलयालम फिल्म इंडस्ट्री के खिलाफ रहे हैं. अब उन्होंने अपने फेसबुक वाल पर बहुत ही आक्रामक तरीके से यह ऐलान कर दिया कि वह अब मलयालम फिल्म इंडस्ट्री की मेनस्ट्रीम से हट रहे हैं. 

मलयालम फिल्म निर्माता लिजो जोस पेलिसरी खुद को एक स्वतंत्र फिल्म निर्माता के रूप में स्थापित कर रहे हैं. लिजो 2019 में सुपरहिट फिल्म ‘जल्लीकट्टू’ का निर्देशन कर चुके हैं, वहीं अब वह अपनी दूसरी फिल्म के निर्देशन की भी तैयारी शुरू कर कर रहे हैं. बता दें कि ये फिल्म उनकी मलयालम फिल्म इंडस्ट्रीज के मेनस्ट्रीम से हटने के साथ पिटारे से बाहर आएगी. लिजो के फेसबुक वाल के मुताबिक 1 जुलाई, 2020 से वह स्वतंत्र निर्देशक के रूप में जाने जाएंगे.

For me cinema is not a money making machinery but a medium to express my vision . so from today onwards I am a…

Posted by Lijo Jose Pellissery on Thursday, June 25, 2020

 

लिजो ने अपनी फेसबुक वॉल की पोस्ट पर लिखा है कि, “मेरे लिए सिनेमा पैसा बनाने वाली मशीनरी नहीं है, बल्कि मेरी छवि को व्यक्त करने का एक माध्यम है. इसलिए आज से मैं एक स्वतंत्र फिल्म निर्माता हूं. मैं सिनेमा से जुटाए गए सभी पैसे का इस्तेमाल बेहतर सिनेमा को बढ़ावा देने के लिए करूंगा.” और कुछ नहीं. मैं सिनेमा कहीं भी दिखाऊंगा, जो मुझे सही लगता है, क्योंकि मैं इसका निर्माता हूं. “

उन्होंने लिखा है कि “हम एक महामारी के बीच में हैं, जहां एक युद्ध- बेरोजगार लोग- पहचान का संकट- गरीबी और धार्मिक अशांति सब कुछ है. लोग केवल घर तक पहुंचने के लिए 1000 मील पैदल चलकर तय कर रहे हैं. कलाकार डिप्रेशन से मर रहे हैं. इसलिए ये समय है कुछ ऐसी चीज बनाने का है जिससे लोग इस अवसाद भरे माहौल से बाहर आ सके खुद को जीवित महसूस करें. मेरी पूरी कोशिश उन लोगों को उम्मीद की एक किरण देना है जो डिप्रेशन में हैं.

लिजो ने अपनी पोस्ट के आखिर में लिखा कि, “हमें काम करना बंद करने के लिए मत कहो. हमें फिल्में बनाने से रोकने के लिए मत कहो. हमारी एकता पर सवाल मत करो. हमारे स्वाभिमान पर सवाल मत करो. हम बहुत कुछ खो देंगे, क्योंकि हम कलाकार हैं.”

बता दें कि लिजो ने ‘जल्लीकट्टू’ के अलावा, 2018 में Ee.Ma.Yau को भी निर्देशित किया है, जिसने उन्हें सर्वश्रेष्ठ निर्देशक के लिए केरल राज्य फिल्म पुरस्कार भी दिया गया है.

एंटरटेनमेंट की और खबरें पढ़ें 





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here