मणिपुर के रोचक तथ्‍य Interesting Facts About Manipur

0
14


मणिपुर का स्‍वादिष्‍ट खाना

मणिपुर का स्‍वादिष्‍ट खाना

P.C: Thomas Martinsen

मणिपुरी का भोजन आमतौर पर स्वस्थ और शाकाहारी होता है। इसके सभी व्यंजन सरल और स्वादिष्ट होते हैं। मणिपुरी लोगों के मुख्य आहार में आमतौर पर चावल, मछली और मौसमी दोनों तरह की सब्जियां होती हैं। स्वस्थ और शाकाहारी भोजन पसंद करने वाले मणिपुर के लोग अपने भोजन में मसाले और जड़ी बूटियों का खूब उपयोग करते हैं। मसाले और जड़ी बूटियों जैसे हुकर चिव्स, पुदीना, धनिया, जीरा और काली मिर्च मिर्च के उपयोग के साथ, वे ज्यादातर भोजन में अतिरिक्त तेल का उपयोग करते हैं। मणिपुर में राज्य के सबसे दिलकश और मनोरम व्यंजनों में से एक चामथोंग का स्‍वा चखना न भूलें।

इमा कीथेल वुमन मा‍र्केट

इमा कीथेल वुमन मा‍र्केट

P.C: Alice Young

मणिपुरी में ‘इमा’ शब्द का शाब्दिक अर्थ अंग्रेजी शब्द ‘मदर’ यानि माता है। इस मार्केट को पूरी तरह से महिलाओं द्वारा चलाया जाता है एवं इमा कीथेल 500 साल पुराना बाजार है, जो एक ऐसे राज्य के जीवन और लोकाचार का प्रतिनिधित्व करता है जहां महिलाएं लंबे समय से वाणिज्य और सामाजिक-राजनीतिक पहलुओं में सबसे आगे हैं। मणिपुर के केंद्र में स्थित इम्फाल का यह ऐतिहासिक स्थल लंबे समय से राज्य का एक महत्वपूर्ण व्यापारिक केंद्र रहा है। भीड़ से भरे इस बाजार में विभिन्न प्रकार की चीजें जैसे कि फैशनेबल कपड़े, सब्जियां, आभूषण, रंगीन कपड़े, मसाले आदि मिलते हैं। इमा कीथेल की गलियों में आपको इस राज्‍य के असली रंग देखने को मिल सकते हैं।

मणिपुरी फैशन

मणिपुरी फैशन

P.C: Ben Ostrower

मणिपुर स्वदेशी संस्कृति और परंपराओं का एक केंद्र है और इसलिए मणिपुरी लोगों के परिधान और कपड़ों की शैली भी उनकी एक तरह की संस्कृति से प्रेरित है। सुरुचिपूर्ण ढंग से कशीदाकारी से लेकर निपुण वस्त्रों तक, आदिवासी कारीगरों की स्वदेशी हस्तकला जादू और आश्चर्य का खजाना है। जीवंत और भव्य पारंपरिक परिधानों में मणिपुरियों का पहनावा और हस्तकला की चमक आपका ध्यान आकर्षित करने के लिए काफी है।

मणिपुर से खेल की उत्‍पत्ति

मणिपुर से खेल की उत्‍पत्ति

P.C: OC Gonzalez

मणिपुर की मिट्टी से पोलो का खेल जुड़ा है। यहां पर पोलो को स्थानीय रूप से ‘सगोल कांजेई’ के रूप में जाना जाता है। अब दुनिया भर में पोलो का खेल खेला जाता है। इस राज्य में इस तरह के बहुत सारे स्वदेशी खेल हैं जैसे ‘यूबी लाकपी’ जो कि रग्बी का एक व्यक्तिगत संस्करण है जिसमें नंगे पैर सात खिलाड़ी गेंद की बजाय एक नारियल का उपयोग करते हैं। इस तरह के अन्य घरेलू खेल ‘ओओलाबी’ हैं, जो केवल रेडर और एसेर्स की टीमों में महिलाओं द्वारा खेले जाते हैं; ‘मुक्‍ना’, कुश्ती का एक पारंपरिक रूप है और ‘हयांग तन्नाबा’ एक विशिष्ट प्रकार की बोटिंग रोइंग रेस है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here